Helping The Blind Help Themselves.
The Blind Relief Association focuses on providing education and training to the visually challenged, enabling them to realize their potential and be self reliant.

Readings



Diwali brings cheer and light into their dark world

(From The Hindu dated 21 October 2014)
(http://www.thehindu.com/news/cities/Delhi/diwali-brings-cheer-and-light-into-their-dark-world/article6522499.ece)

RANA SIDDIQUI ZAMAN
COMMENT   ·   PRINT   ·   T  T  
The Festival of Lights is not just for
those blessed with sight but even those
who have lost their vision enjoy the
sound and euphoria associated with
the festival. File photo: K.R. Deepak
The HinduThe Festival of Lights is not just for those blessed with sight but even those who have lost their vision enjoy the sound and euphoria associated with the festival. File photo: K.R. Deepak

There are three kinds of visually-impaired people, and for each category Diwali holds a different meaning.

“The first thing is stop calling them ‘they’,” says K. C. Pandey, management head of the Blind Relief Association (BRA), while referring to the visually-impaired people.
He is right. The visually-impaired enjoy Diwali as much as any one with two pairs of eyes do, and especially if they are among friends in a hostel, as parents often get overprotective about them while they light firecrackers on their own.
There are three kinds of visually-impaired people, and for each category Diwali holds a different meaning. For those blind by birth, the festival of light is just a medley of sounds. For the partially blind it’s a blurred of vision of sparkling lights and some can even peer at the brands and check the ones they like. For those, who are on the verge of loosing sight it’s the time to pack in memories of lights and colours. At the hostel here they have an edge over the other two categories, who often “seek help” from them to identify the firecrackers and the 'danger' they pose.
At BRA, the residential senior secondary school, students of all ages, however, are having a gala time this season. The fun includes bursting firecrackers and decorating diyas in the hostel. For most of the students’ rocket bomb, sutli bomb, 'bullet' bomb, anar bomb and woollen bomb are outright favourites.
“I love rocket bomb. ‘Voh mast phootta hai’. I crack them after placing them in a bottle.” says Pawan Kumar.
“Once we had put all our rockets in an almirah and somehow they caught fire. Since the rockets didn't find space to go up, they went spiralling down. Later, we saw numerous holes in the bottom of the almirah,” recalled Mahtab, a student of Class XI, as everyone around laughed aloud. Imran, another student, said: “There is no count of naughty stuff we do during Diwali. We fire crackers inside spare desks. I love to fire crackers inside a mouse trap, hold it and run with it.”
A Class XII student Daman Preet Singh chipped in: “Though we can't see the firecrackers but burning them is fun. Our parents/guardians tell us the colours and sizes and make us touch them to feel their shape. So, we all practically know what they look like. I even know and have touched the ash of the 'snake' tablet. To be on the safe side, though, some of us fire the crackers by wrapping them in papers.”
Gaurav Mishra, who is partially visually impaired, lights the crackers by hand. “I am perceptive to light. When I can see it flickering hazily I leave the cracker to burst. When we light the bomb, its mild ‘surrr’ sound alerts us to run away.”
Another student Deshraj, who is slowly losing sight, said earlier he loved to take risk with fire crackers and is particularly fond of anars. “I can hazily see a shadow of the anar flashing as it flowers up.”
Students unanimously agree that they love to celebrate Diwali with their friends rather than at home. “Parents are too protective at home. We have less fun there”, many of them said in unison.
For some children in the primary section here, Diwali is also an occasion for “eating unlimited amount of sweets”.
“I eat rasgullahs and balooshahi endlessly and love lighting up the bullet and sutli bombs,” said Aditya from Haryana, a Class V student.
His views were echoed by Tushar, his class mate who loves to fire crackers “from the gun for safety reasons.” Nihal, who is slowly losing vision, said he loved Diwali more when his sight was better. But, he insisted that with friends around, he was slowly coming to accept his disability. “This year, I will also enjoy the way I used to,” he declared.
The visually-impaired also often commit dangerous mistakes while lighting firecrackers. Some of the boys narrated how they took a slow burning bomb to be a defused one and had to run when it exploded. Some narrated how they threw a burning firecracker towards a friend by mistake and how often the sutli bombs simply burst under their feet.
Damanpreet concluded by asking: “Even sighted people face this scenario, right?”

See Raveesh Kumar's NDTV Prime Time episode on how our hostellers enjoy Diwali 

आंखें नहीं तो क्या, दिल तो रोशन है


http://www.ndtv.com/video/player/prime-time/prime-time-how-visually-impaired-celebrate-diwali/342462

>>>>>>>>>>>>>>>>>   <<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<<
MAA SE MAA TAK




Address by Chief Guest Smt. Varsha Das at the 70th Annual Function of the Blind Relief Association,  9 December 2013

 ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशेन के 70वें वार्षिकोत्सव,   9 दिसम्बर 2013 को
 मुख्य अतिथि श्रीमति वर्षा दास द्वारा दिये गये भाषण का अंश

क्षमता उजागर करें


आज आप लोगों ने मुझे यहां आमंत्रित करके कुछ नया सीखने और जानने का अवसर दिया है, इसके लिए मैं आप सबकी बहुत आभारी हूं।

आप के इस परिसर में मैं कुछ वर्ष पहले भी आई थी और यहां से काफी प्रेरणा और उर्जा लेकर लौटी थी।

प्ररेणा और उर्जा बटोरने का सिलसिला जब चलता रहता है, तो जीवन हमेशा ताजगीभरा रहता है। जिस दिन हम में से किसी ने भी सोच लिया कि मुझे सब कुछ आता है, नया कुछ जानने-सीखने की जरूरत नहीं है, उस दिन से हमारा दिमाग, हमारा जीवनप्रवाह वहीं रूक जाएगा। उम्र तो बढ़ती चली जाएगी, सुबह से रात भी होती जाएगी लेकिन हमारे कदम मानों आगे बढ़ने के बजाय पीछे की ओर जाने लगेंगे। progress करने के बजाय हम regress करने लगेंगें।

मेरी मातृभाषा गुजराती है। मैं गुजराती माध्यम के स्कूल में पढ़ी थी। हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत भाषाएं एक-एक विषय के तौर पर पढ़ाई जाती थीं। स्कुल में सीखा हुआ एक संस्कृत श्लोक मुझे आज भी याद है। आपको सुनाती हुं।

विद्या ददाति विनयम्, विनयात् द्याति पात्रताम्।
पात्रत्वाद द्धनमाप्नोति, धनात् धर्मः ततः सुखम्।।

विद्या यानी ज्ञान, knowledge, education  वह हमें क्या देता है?  हमें नम्रता, संस्कार देता है। विनय से हमें योग्यता, क्षमता मिलती है। हमारे चारित्र्य का गठन होता है। उस योग्यता से, पात्रता से हमें धनप्राप्ति होती है। धन की वजह से हम अपने कर्तव्यों का पालन कर पाते हैं, परिवार, समाज और देश को हमसे जो अपेक्षाएं हैं उसे अपने व्यवहार में, आचरण में ले आना, यही हमारा धर्म है। उसे अपना फर्ज मानकर, अपना कर्तव्य मानकर हमें परिवार, समाज और देश के प्रति अपना ऋण चुकाना है। इस बर्ताव से हम सम्मान और गौरव प्राप्त करते हैं। हम सुख का, आनंद का अनुभव करते हैं।

ज्ञान-प्राप्ति, शिक्षा वास्तव में आनंदमय जीवन जीने के लिए है। अभी मैंने जो श्लोक बताया उसके चार वाक्यांशों में शिक्षा से सुख तक का रास्ता स्पष्ट रूप से दिखाया गया है। यदि धन प्राप्त करने की जल्दबाज़ी में हम विनय-विवेक, योग्यता, कर्तव्य को नजरअंदाज कर दें, और बड़ी छलांग लगाने का प्रयत्न करें तो पैर तो फिसलेगा ही, चोट भी लगेगी, आगे बढ़ना मुश्किल हो जाएगा।


इसी से मिलती-जुलती बात महात्मा गांधी ने अलग तरीके से बताई थी। सन् 1925 के 22 अक्तूबर की यंग इंडिया पत्रिका में उन्होंने सात सामाजिक पाप के बारे में बताया था। ये क्या हैं?

सिद्धान्तविहीन राजनीति
Politics without principles

परिश्रमविहीन धनोपार्जन
Wealth without work

विवेकहीन सुख
Pleasure without conscience

चरित्रविहीन शिक्षण
Knowledge without character

सदाचारविहीन व्यापार
Commerce without morality

संवेदनाविहीन विज्ञान
Science without humanity

वैराग्यविहीन उपासना
Worship without sacrifice

इन सात बातों में से कम से कम दो-चार तो हम सब को लागू होती होगीं। ये सारी बातें हमें जीवन से संबंधित मूल्य सिखाती हैं। हम इस रास्ते पर चलने का संकल्प कर लें तो आत्म-सम्मान के साथ जी पाएंगें। We all want to live a life of dignity.  हम अपनी पढ़ाई में कई विषय सीखते हैं जैसे कि गणित, विज्ञान, इतिहास, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र, भाषाएं इत्यादि। इन विषयों का उपयोग हम एक साधन के रूप में करते हैं जिससे हम local level पर national   और global level पर एक जिम्मेदार नागरिक की तरह ठोस काम कर सकें, योगदान दे सकें।

अच्छी शिक्षा यानी केवल यही नहीं कि विद्यार्थी स्कूल में कितने घंटो तक पढ़ते हैं या स्कूल में शिक्षकों की संख्या कितनी है या स्कूल का मकान कितना बड़ा है? शिक्षक ने जो कुछ पढ़ाया और विद्यार्थियों ने जो सीखा उस से विद्यार्थी की समझ, सूझ, कल्पनाशक्ति और कुशलता का विकास हुआ है या नहीं? यह शिक्षा विद्यार्थी के चरित्र का हिस्सा बन पाई है या नहीं?  इन्हीं मानदंडों पर शिक्षा की सफलता का मूल्यांकन हो सकता है।

शिक्षा का महत्व हम सब जानते हैं। शिक्षा, संस्कृति और शांति का प्रसार करने वाली सोका गोक्काई नामक एक संस्था के अध्यक्ष डा. दाइसाकु इकेदा ने  value creating education  के कुछ मुख्य बिंदु बताए हैं।

The purpose of education is the lifelong happiness of the learner.
Wisdom comes from understanding how everything in life is interconnected, interrelated.

सब कुछ एक-दूसरे पर निर्भर है। परस्पर जुड़ा हुआ है।

Deeply respecting the learner unlocks inner motivated learning
Learners need to become global citizens.
Humanistic  teachers are the key- a truly humanistic person raises a truly humanistic person.

इसके लिए जरूरी है कि शिक्षक और हम सब, जिनको शिक्षा के किसी भी क्षेत्र में रूचि है, हमें जीवनभर सीखते रहना होगा। गुरूदेव रवीन्द्रनागर ठाकुर ने कहा थाः  “A teacher can never truly teach unless he/she is learning himself/herself. A lamp can never light another lamp unless it continues to burn its own flame.”

हम सब में कई प्रकार की क्षमताएं हैं। हम अपने आपको चुनौती देकर उन क्षमताओं को उजागर कर सकते हैं। जैसे सितार के तार में संगीत है। लेकिन उस संगीत को बाहर निकालने का काम तो उसे बजानेवाला ही करेगा ना?

तो आइए, इन तारों को छेड़ें और उसमें से निकलते सुरीले संगीत का आनंद उठाएं। दूसरों को भी उसका आनंद दें। आप सभी के सारे सपने साकार हों यही मेरी शुभकामना है।


धन्यवाद। 

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>
Down the Memory Lane
वे लोग


श्रीमती बी तारा बाई
संस्थापक सदस्य और उपाध्यक्ष
दी ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन, दिल्ली
(अक्टूबर 1969)


कोई भी बड़ी संस्था हो, शुरुआत तो एक छोटे से कदम से ही होती है, और बहुधा उसके जन्म के पीछे  किसी एक व्यक्ति का सपना होता है। फरवरी 1944 में श्रीमती अनुसुयाबाई बसरूरकर द्वारा दी ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन की स्थापना की भी एक ऐसी ही गाथा है। चिकित्सा सेवा से जुड़ी  श्रीमती बसरूरकर एक सहृदय महिला  थीं और अपने आस पास के समाज में गरीब और असहाय लोगों की दशा के प्रति बेहद संवेदनशील थीं।  गरीबों और पिछड़े लोगों  के हितैषी और उनकी मदद को तत्पर दम्पति के रूप में अनुसूया और उनके पति श्री उमेश . बसरूरकर की ख्याति आस पास के समाज में खासी थी। वे दान देने में नहीं बल्कि ग़रीबों और विकलांग व्यक्तियों को ऐसी सक्रिय मदद देने में विश्वास रखते थे ताकि वे एक समाजोपयोगी और ईमानदार नागरिक बन सकें। 
  
यह वो समय था जब श्री बसरूरकर  फिरोजपुर जेल में बंद थे उन्हें सन् 1942 के राष्ट्रीय आन्दोलन में भाग लेने की वजह से अंग्रेजों ने कैद कर रखा था। यह एक संयोग ही था कि श्री बसरूरकर उन दिनों जेल में चार्ल्स डिकेंस की पुस्तक अमेरिकन नोट्स पढ़ रहे थे। पुस्तक में अमेरिका के बोस्टन शहर में स्थित पर्किन्स इंस्टीट्युशन फॉर दी ब्लाइंड  और वहाँ लौरा ब्रिजमैन नाम की एक बालिका   का वर्णन है।  लौरा न केवल दृष्टिहीन और मूक बधिर थीं बल्कि वे घ्राण क्षमता से भी वंचित  थीं, यहाँ तक की उनकी जीभ भी स्वाद जान सकने में लगभग अक्षम थी। बावजूद इन सब बाधाओं के  उनके कमाल के शिक्षक डा. समूएल हॉवे  ने उन्हें प्रशिक्षित किया।  इस वर्णन ने श्री बसरूरकर के मन पर एक गहरा प्रभाव छोड़ा।

जिस समय श्री बसरुरकर को जेल से रिहा किया गया, उनका स्वास्थ्य इस कदर गिर चुका  था कि उन्हें घर तक स्ट्रेचर में लाना पड़ा। मगर श्री बसरूरकर एक बुलंद हौसले वाले  इंसान थे और स्वभाव से  आशावादी। स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते ही बसरूरकर दम्पति ने समान विचार वाले मित्रों से भारत में दृष्टिहीनों की समस्याओं पर गंभीर विमर्श शुरू किया  ताकि उनके पुनर्वास के लिए कुछ  ठोस काम किया जा सके। समस्या विकट  थी जिसका हल महज निजी दया दान से संभव न था।  दान से तो दान लेने वाले में मानसिक असहायता और क्षुद्रता बोध जनित निराशा का भाव ही प्रबल होता है। हाँ, यद्यपि ऐसी सामाजिक सहानुभूति पर आधारित सहायता व्यस्थित ढंग से उन तक पहुँचाई जाए तो वह दृष्टिहीन  व्यक्ति में आत्मविश्वास अवश्य जगा  सकती है  और जीवन को सोद्देश्य जीने के लिए प्रेरित कर सकती है।  उनका मानना था की यह पुनर्वास तभी संपूर्ण कहलाया जा सकता है जब उसमे मानसिक, शारीरिक और आर्थिक सशक्तिकरण के तीनों तत्त्व शामिल हों।  इन्हीं उद्देश्यों को सामने रखते हुए 26 फरवरी 1944 के दिन दी ब्लाइंड रिलीफ असोसिएशन की स्थापना की गयी। बेशक, धन उपलब्ध नहीं था मगर बसरूरकर दम्पति की अपील पर उनके मित्रों ने दिल खोल कर सहायता दी। वर्ष भर बाद ही दिल्ली नगर से 14 मील दूर बदरपुर में एक  विस्तृत भूखंड के मध्य अवस्थित किराये की मारत में इंडस्ट्रियल होम एंड स्कूल फॉर ब्लाइंड खोला गया। अब तो मानो जीविकोपार्जन के बाद इस दम्पति के लिए यह विद्यालय ही सब कुछ था।
 
खासी गहमागहमी भरे थे वे दिन। श्रीमती बसरूरकर और उनके प्रतिबद्ध और समर्पित साथी  निकल पड़ते बसरूरकर जी की बादामी बेबी ऑस्टिन गाड़ी में। दिल्ली और आसपास के गाँवों कस्बों के चक्कर लगाते फिरते। लोगों से अपील करते कि घर में यदि कोई नेत्रहीन बच्चा हो उसे हमें सौंपें ताकि हम उसका निःशुल्क लालन-पालन, शिक्षण और कौशल प्रशिक्षण कर सकें। शुरू-शुरू में तो लोगो को यह नहीं जंचा क्योंकि उस ज़माने में   दृष्टिहीनों और उस पर भी ऐसे बच्चों के लिए भीख मांगना ही एक अच्छा धंधा दीखता था। मगर जल्द ही बसरूरकर और असोसिएशन की सच्ची नेकनीयती से प्रभावित हो लोग राजी होने लगे।  कोई हैरानी नहीं कालांतर में अभिभावकों को कोई निराशा नहीं हुई

केवल दो बालकों से विद्यालय शुरू हो गया। देखते-देखते छात्रों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी। आरंभ से ही विशेष बल दिया जाता था बच्चों के मनोवैज्ञानिक पुनर्वास पर  ताकि वे अपने हम उम्र साथियों के साथ घुलमिल कर अपनी विकलांगता भूल जाएँ। पाठ्यक्रम में मिडिल स्कूल स्तर की सामान्य शिक्षा, गायन और वादन की शिक्षा, लघु उद्योगों के शिल्प में प्रशिक्षण, बेंत से कुर्सी बुनना, टोकरी बनाना, और हलकी  मशीनों पर काम करना आदि शामिल था। कालांतर  में  व्यवसायिक चिकित्सा (Occupational Therapy) विभाग, हॉबी क्लब, छात्र संघ और आश्रितकार्यशाला (sheltered workshop) आदि उसमें जुड़ते चले गए।

जितनी आत्मीयता से बसरूरकर दम्पति विद्यालय को समर्पित थे, बच्चों  के  भी वे  उतने ही प्यारे हो गए थे। उत्सुकता और उल्लास भरे  बच्चे तो हर रविवार  की सुबह अपने "माता-पिता " के आने की  प्रतीक्षा में रहते थे। अपनी   व्यवसायिक जिम्मेवारियों और अन्य क्षेत्रों में व्यस्तताओं के बावजूद दोनों हर हालत में अपने इन बच्चों के कल्याण कार्य के लिए तो समय निकाल ही लेते थे। शायद ही कोई रविवार हो जब वे विद्यालय न आये हों। यदि किसी बच्चे की तबियत ख़राब होती तो श्रीमती बसरूरकर इलाज करने हाजिर होतीं। अगर कहीं बच्चों में आपसी झगडा  या मनमुटाव  हुआ तो  वातावरण शांत करने वे हाजिर होतीं कोई त्यौहार आता तो फलों और मिठाई के  टोकरे लिए हाजिर होतीं। दिवाली के  रोज  तो अवश्य ही बसरूरकर दम्पति को पटाखों, फलों, मिठाई के  टोकरों के साथ  देखा जा सकता था। गणतंत्र दिवस  परेड देखने का कार्यक्रम  दिनों  पहले बनने लगता था। माताजी - जिस नाम से सब बच्चे श्रीमती बसरूरकर को पुकारते थे उनके लिए सब कुछ थीं।  शरारत करने  पर वो सख्ती से पेश आतीं, मगर  बच्चों के प्रति उनका स्नेह  अथाह था।

आरंभिक दिनों में अज्ञानतावश बच्चों को स्कूल भेजने में अभिभावकों कीआनाकानी को देखते हुए श्रीमती बसरूरकर को  एक विचार सूझा - क्यों   शिक्षा से वंचित वयस्कों के लिए रात की  पाठशाला  खोली जाय। पाठशाला  उनके घर के बरामदे में ही खुल गयी, जिसमे वे स्वयं ही शिक्षिका का रोल अदा करने लगीं। सबसे पहले उन्होंने अपने घरेलू  नौकर को ही साक्षर होने के लिए प्रोत्साहित किया ताकि वह अन्य लोगों के लिए  प्रेरणा का स्रोत बने। देखते देखते उसके दोस्त, और फिर उनके दोस्त पढने के  लिए आने  लगे। जल्द ही पाठशाला इतनी बड़ी हो  गयी की  घर का बरामदा  छोटा पड़ने लगा, और  पाठशाला को  बंगाली मार्किट के गोलचक्कर पर  बिजली के खम्भों के नीचे ले  जाना पड़ा।

श्रीमती बसरूरकर ने अपने  पड़ोसियों से अपील की कि वे अपने  घरेलू नौकरों को  रोज रात 9 बजे तक  काम  से  छुट्टी दे दिया करें ताकि वे रात्रि की इस  पाठशाला में  उपस्थित हो सकें। ख़ुशी की बात थी की  बहुतों ने इस अपील को माना। प्रौढ़ शिक्षा की इस पहल ने ऐसी  गति  पकड़ी कि शहर  की आठ अन्य बस्तियों से भी ऐसी पाठशाला खोलने की माँग आने लगी। श्रीमति बसरूरका  का  नित्य  का नियम था,  रात के भोजन के बाद इन पाठशालाओं को देखने जाना, केवल उन अवसरों को छोड़ कर जब प्रसव  के  मामलों में अप्रत्याशित  अवसर पर  उन्हें जच्चा को देखने जाने की मजबूरी न हो। कुछ ही वर्षों में इस परियोजना ने  इतना  विस्तृत  का ले लिया कि इसे नई दिल्ली नगर पालिका को सौंपना पड़ा। इन कामों में भी उन्हें अपने पति का भरपूर सहयोग मिला। उनकी अभिरुचि और  इरादे ही  कुछ ऐसे थे कि श्री बसरूरकर भी  उनमें शामिल हुए बिना नहीं रह सके। अंध विद्यालय की देखरेख और प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रमों के जड़ जमा लेने भर से ही श्रीमती बसरूरकर  की प्यास शांत नहीं  हुई। उन्होंने आल इंडिया विमेंस  कांफ्रेंस (AIWC ) की दिल्ली शाखा को झुग्गी-झोपड़ियों में  रहने वाली  महिलाओं के लिए  सिलाई-कढाई का प्रशिक्षण और लिखना – पढ़ना सिखाने के लिए  कई केंद्र खोलने को प्रेरित किया, जहाँ प्रशिक्षकों को बाकायदा वेतन भी  मिलता हो। इस कार्य में  उन्हें  AIWC  के वरिष्ठ सदस्यों का भी भरपूर सहयोग मिला और नतीजा था कि ये केंद्र सुचारु ढंग से चलने लगे। हालाँकि उनका  स्वास्थ्य कुछ ठीक  था, मगर श्रीमती बसरूरकर अपने आत्मबल और  सेवाभाव  की अदम्य शक्ति से ये  तमाम काम  करती रहीं। जीवन के अंतिम वर्षों में वे रीडिंग रोड (वर्तमान – मंदिर मार्ग) पर अवस्थित सामुदायिक भवन के  चिकित्सा एकांश की गतिविधियाँ देख रही थीं। सन् 1957 में वे एक घातक  रोग  की चपेट में  गयीं और 4 जून 1958 को  उन्होंने  देह त्याग दी।

श्रीमती बसरूकर का जाना उनके तमाम सहयोगियों, विशेषकर उनके पति और उन संस्थाओं के लिए , जिनकी नींव  उन्होंने डाली थी, एक गहरा सदमा था –एक  अपूरणीय क्षति थी। श्री बसरूरकर  उसके  बाद  अपने को संभाल  सके। एक वर्ष के भीतर ही वे भी  रहे और इंडस्ट्रियल होम एंड स्कूल फॉर दी ब्लाइंड  वास्तव में अनाथ हो गया।

श्री बसरूरकर एक दूरदृष्टि वाले व्यक्ति थे। एक ओर तो उनकी पत्नी विद्यालय के भीतरी कामकाज देखती थीं, दूसरी ओर वे उस के लिए धन जुटाने का काम देखते, लोगों को जुड़ने को प्रेरित करते और संस्था के विस्तार की योजनायें बनाते थे। बड़ी मशक्कत से उन्होंने सरकार से लिंक रोड (वर्तमान - लाल बहादुर शास्त्री मार्ग) पर संस्था के लिए भूखंड उपलब्ध करवाया और एक बड़ी सहायता राशि का वायदा दिलवाया। भवन की आधार शिला रखी इस सदी की एक महान नायिका हेलेन  केलर  ने 1955 में जब वे दिल्ली के दौरे पर आयी थीं। मगर दुर्भाग्य कि दोनों ही संस्थापक नए परिसर के अपने सपने को साकार हुआ न देख सके जहाँ एक कार्यशाला, छात्रावास, विद्यालय और  सभागृह आदि भवनों का निर्माण होना था। आर्थिक तंगी के चलते संस्था बुरे दिनों में फँस गयी। कार्यकर्ताओं की कमी न थी। बसरूकर जी के कर्मठ और समर्पित सचिव श्री के एन नायर ने काम को आगे बढाया, और आज भी समय देकर संस्था के कार्यकारी सचिव पद का दायित्व संभाले हुए हैं। यदि संस्था के पास श्री नायर जैसा पूर्ण समर्पित और निःस्वार्थ भाव से काम करने वाला व्यक्ति न होता तो व्यस्थापकों के लिए संस्था और विद्यालय का काम चलाना संभव न होता। स्थिति  यह थी की बसरूरकर दम्पति के कई सहयोगी और मित्र भी कार्यक्रमों को जिंदा रख पाने में अपने को असमर्थ पा रहे थे।

संस्था में नवजागरण हुआ, एक नयी आशा जगी जब संस्था ने श्रीमती दुर्गाबाई देशमुख को अपना अध्यक्ष चुना। उनकी  गतिशीलता, कर्मठता, समर्पण और दूरदृष्टि ने मानो संस्था में नई जान फूँक दी। धन आने लगा, रुके निर्माण कार्य फिर से शुरू होने लगे और नई इमारतें खड़ी होने लगीं। अमेरिकी सरकार के आर्थिक सहयोग से नए ढंग का तकनीकी प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू किया गया और 30 जुलाई 1966 को प्रधान मंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी द्वारा संस्था के नए भवन का विधिवत उद्घाटन हुआ।

इंडस्ट्रियल होम एंड  स्कूल  फॉर  दी  ब्लाइंड  के कई मित्रसमर्थक और शुभचिंतक थे  जो समय समय पर आर्थिक और जरूरत की चीज़ों से मदद  देते रहते थे। इनमें अमेरिकन विमेंस क्लब, दिल्ली कामनवेल्थ विमेंस एसोसिएशन, रोटरी क्लब, लायंस क्लब, राउंड टेबल, पेरीवाल बंधू आदि अनेक व्यक्ति शामिल थे।

अब लगता है कि ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन के दुर्दिन दूर हो चुके हैं और संस्था की प्रगति और विस्तार के नए युग  का शुभारम्भ हो चुका है। प्रभु से कामना है कि वह इस संस्था पर अपनी कृपा  दृष्टि बनाये रखे, एक ऐसी संस्था जिसे दिवंगत श्री उमेश और  श्रीमती अनुसूया बसरूरकर जैसी पवित्र  विभूतियों ने स्थापित किया।

प्रस्तुत लेख (मूल अंग्रजी में The  Pioneer शीर्षक  से)  दी ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन, दिल्ली के स्वर्ण जयंती समारोह के अवसर पर अक्टूबर 1969 में प्रकाशित स्मारिका से लिया गया है।  लेखिका बसरूरकर दम्पति के साथ संस्था के सक्रिय संस्थापकों  में से एक थीं और वर्षों प्रमुखता से सहयोग देती रहीं। लेखिका एक प्रतिष्ठित समाज सेविका के रूप में भी जानी जाती थीं और 1947 से 1961 तक दिल्ली के प्रतिष्ठित लेडी इरविन कॉलेज में निदेशक के पद पर कार्यरत रहीं 

दी ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन, दिल्ली देश की एक प्रतिष्ठित संस्था है जो  लगभग सात दशकों  से दृष्टिबाधितों  की शिक्षाप्रशिक्षण और  पुनर्वास कार्यों को समर्पित है। भारत सरकार ने संस्था को सन् 2012 के राष्ट्रीय सम्मान – विकलांगों के सशक्तिकरण के क्षेत्र में कार्य के लिए  सर्वश्रेष्ठ संस्था -- से विभूषित किया है।      

(अनुवादक - कैलाश चन्द्र पाण्डे, कार्यकारी सचिव, दी ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन, दिल्ली)  

    मार्च 2013